अभी-अभीराज्यों से ख़बरेंहरियाणा-पंजाब

किसान बदहाल है और चौधरी देवीलाल के वंशज दुष्यंत चौटाला सत्ता से चिपके हैं – योगेन्द्र यादव

Story Highlights
  • योगेन्द्र यादव ने दुष्यंत चौटाला से पूछे 10 सवाल
  • दुष्यंत के पास जवाब नहीं तो इस्तीफा दें ! - योगेन्द्र यादव
  • 6 अक्टूबर को किसान सिरसा में दुष्यंत चौटाला के घर का घेराव करेंगें

अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (AIKSSC) के वर्किंग ग्रुप के सदस्य और स्वराज अभियान के प्रमुख योगेन्द्र यादव ने तीनों कृषि कानूनों को लेकर हरियाणा के उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला से दस सवाल किए हैं .योगेन्द्र यादव ने चंडीगढ़ में एक प्रैसवार्ता को संबोधित करते हुए दुष्यंत चौटाला से दस सवाल पूछे और कहा कि यदि दुष्यंत चौटाला के पास इन सवालों को जवाब नहीं है तो उनको उप-मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए.

योगेन्द्र यादव के उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला से 10 सवाल :

  1. क्या आपने या आप की पार्टी ने आज तक इन तीन कानूनों जैसे किसी बदलाव या लाने की मांग की थी?
  2. क्या भाजपा सरकार ने अध्यादेशों को लाने से पहले या उसके बाद आपकी पार्टी की राय ली थी?
  3. क्या इन तीनों कानूनों का कोरोनावायरस या लॉकडाउन से कोई संबंध था? नहीं तो इन्हें इस महामारी के बीच अध्यादेश के जरिए क्यों लाया गया?
  4. राज्यसभा में बिना वोट के जिस तरह से इन कानूनों को पास किया गया क्या उसका समर्थन करते हैं?
  5. अगर इन कानूनों से एमएससी को कोई खतरा नहीं है तो क्यों नहीं MSP को कानून में शामिल कर लिया जाता?
  6. आवश्यक वस्तु कानून में बदलाव कर कम्पनियों को जमाखोरी की खुली छूट देने से किसान को क्या व कैसे फायदा होगा?

* क्या कम्पनियां को किसान व कंज्यूमर दोनों को लूटने का अधिकार दिया गया है?

  1. बिना टेक्स दिए कम्पनियों को मंडी से बाहर खरीद की छूट और मंडी में खरीददार पर भारी टेक्स क्या मंडी को खत्म करने का एजेंडा नहीं है?

*  क्या इससे किसान खुली मंडी में बोली लगाकर फसल बेचने से वंचित नहीं होगा?

*  फसल खरीददार पर टैक्स से किसानों को जो सड़कों जैसी सुविधा मिलती है वह खत्म न होगी?

  1. फसल पकने से पहले कम्पनियों से एग्रीमेंट के नाम पर किसान से दस्तखत करवाना उसकी अपनी लूट पत्र पर मोहर लगवाना न होगा ?

*  क्या किसान बड़ी कम्पनियों से हक ले भी पायेगा?

  1. दुष्यंत जी आप बार बार कह रहे हैं कि राज्य में हर फसल MSP पर बिकेगी। फिर MSP पर खरीद का कानून या सरकारी आदेश क्यों नहीं जारी हुआ ? इस वक्त आपकी आंख के सामने फसलें MSP (एमएसपी) पर बिक नहीं रही, ऐसा क्यों ? फिर भी क्यों आप कुर्सी से चिपके हैं ?
  2. जब देश में एक भी किसान संगठन या किसान नेता इन कानूनों के समर्थन में बोलने को तैयार नहीं तब चौधरी देवी लाल का वंशज इनकी ढाल बनकर क्यों खड़ा हुआ है ?

 

द भारत खबर डॉट कॉम

आपकी क्या प्रतिक्रिया है?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button